Wednesday, December 22, 2010

कैफ़ियत



वो साहिल की रेत में दबी
किताब सा मिला
कुछ नम, कुछ रुखा,
नम पन्नों पर
कुछ धूल सी जम आयी थी

सीलन से
कुछ वर्क ग़ल गये थे
कुछ हर्फ़ भी पिघल गये थे
कुछ सीमे हुए से किरदार मिले
उन आधे अधूरे पन्नो में
बड़े ही दिलचस्प थे
पूरा पढ़ना चाहा, पर
ठीक से पढ़ ना सकी...


अजीब कैफ़ियत है
अजीब क़िस्सा है
ना इब्तिदा है कोई
ना अंजाम तक ही पहुँचा
फिर भी पढ़ती हूँ
अक्सर उसे
उन अनसुलझे किरदारों से
अजीब शनासाई है...

-- ऋचा

27 comments:

  1. Bahut achcha representation.. phir se agrah karunga ki aapko apni rachnaon ka sangrah prakashit karne par gambheerata se vichar karna chahiye..

    happy blogging

    ReplyDelete
  2. अरे वाह..बहुत खूब...
    क्या खूब नज़्म है, दिल को भा गयी...
    बिलकुल सच्ची.....
    और ये कर्सर ले जाने पर शब्दों के अर्थ पता चलने वाला फ़ॉर्मूला भी पसंद आया...हम जैसे अज्ञानियों के लिए तो अमृत का काम करेगा....:)

    ReplyDelete
  3. वो साहिल की रेत में दबी
    किताब सा मिला
    कुछ नम, कुछ रुखा,
    नम पन्नों पर
    कुछ धूल सी जम आयी थी

    सीलन से
    कुछ वर्क ग़ल गये थे
    कुछ हर्फ़ भी पिघल गये थे
    कुछ सीमे हुए से किरदार मिले
    उन आधे अधूरे पन्नो में
    बड़े ही दिलचस्प थे
    पूरा पढ़ना चाहा, पर
    ठीक से पढ़ ना सकी...
    waah

    ReplyDelete
  4. गुलज़ारियत जम कर हावी हैं......सहमत हूँ आशीष जी से .....अब छपवा ही लो :-)

    ReplyDelete
  5. हमारा हाल यही होता है, कुछ रूखा, कुछ नम।

    ReplyDelete
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (23/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  7. खुबसूरत से एहसासों का खूबसूरती से प्रस्तुतिकरण....

    इन्हें छपवाओ तो कृपया सूचित जरुर करना.....

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  8. रेत पर अच्छे मनोभाव उकेरे हैं … शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  9. बहुत खूबसूरत लेखन है आपका. पढ़कर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  10. बहुत खूबसूरत ....यह जान पहचान भी बहुत भली लगती है ...

    ReplyDelete
  11. जाने किस ओर निकले कल रुखसती के बाद दीवाने
    तेरी कैफियत का जिक्र कल शाम हुआ था मयखाने में

    in between how come you do..that meaning of words display on your blog?

    ReplyDelete
  12. इस कविता ने इतनी गहराई में उतार दिया कि शब्द और भाव मेरे परिवेश का ही बयान करने लगे। एक कविता को इससे ज्यादा और क्या चाहिए।

    ReplyDelete
  13. वाह...वाह...वाह...क्या कहने..

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ....।

    ReplyDelete
  15. धूल से आच्छादित किताब सा कोई रिश्ता...
    खूबसूरत विम्ब!
    सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  16. हाँ ... इस नज़्म का पहला मिसरा ... खयालात की लंबी उड़ान है.. वो साहिल की रेत में दबी किताब सा मिला ... हट्स ऑफ इस बात के लिए ... यह मिसरा ही अपने आप में एक पूरी कविता है .. बाकी बातें उसी पहले मिसरे को पर्त दर पर्त एक्सप्लेन करने जैसा है ..हाँ नज़्म के अंत नें फिर से बांह पकड़ के बैठा लिया.. और कहा ..फिर पढ़ो ... :)

    ReplyDelete
  17. 'वर्क’ पढकर लगा कि जैसे गुलज़ार साहेब उसे कह रहे हो..
    स्वप्निल सही कहता है कि आखिरी पैरा कहता है कि पिक्चर तो अभी बाकी है..

    ReplyDelete
  18. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  19. @ all... आप सभी का तह-ए-दिल से शुक्रिया इस हौसला अफज़ाई का :)

    @ dr. anurag... its a very simple HTML trick... will mail you the details...

    ReplyDelete
  20. ekdam dil se nikli hui lajabab pangtiyan.bahot sunder.

    ReplyDelete
  21. अहसासों से परिपूर्ण बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  22. जिसकी ना इब्तिदा , ना अंजाम ...
    पढना उसे बहुत भाया ...
    जबकि ठीक से पढ़ा भी नहीं जा सका ...
    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  23. भाई वाह, कमेंट डिजेबल कर के कुछ लोग समझते हैं वो हमारा मु बंद करा देंगे. अरे यहाँ नहीं तो फेसबुक पे बोलेंगे. मेल पर बोलेंगे. एस एम् एस पर केह देंगे. कुछ नहीं तो उनके दिल में बोलेंगे. अपना लब खोलेंगे.

    चुप थोड़े ना रहेंगे... हाँ तो कहना ये के "वाह".


    ReplyDelete

दिल की गिरह खोल दो... चुप ना बैठो...

Related Posts with Thumbnails