Sunday, June 7, 2009

अमलतास


amaltas ke phool, bachpan se hi humen apni oor aakarshit karte hain... ghar ke saamne hi amaltas ka ek ped hai, garmiyon ki subah uth kar jab bahar baraamde me jaa kar dekhte hain to peele peele phoolon ki ek badi si chaadar ped ke neeche bichhi rehti hai aur uski bheeni bheeni khushbu subah ko aur bhi taro taaza kar deti hai, shaam ki lalima me amaltas ke peele phool aur bhi adbhut dikhte hain... maano ped ko kise ne dher saare soone ke zewar pehna diye hain...

abhi haal hi me amaltas par likhi hui gulzar sa'ab ki ek nazm padhi aur bas man hua use aap sab ke saath share karne ka... par itni khoobsurat nazm aur itne khoobsurat mauzuu ko sadharan tareeke se kaise pesh karte... bas andar ka artist jaag gaya ... umeed hai peshkash pasand aayegi... aur pasand aaye to tareef me do shabd zaroor kahiyega :-)

5 comments:

  1. गुलज़ार साहब .....कोई कह तो दे कि इनका किया क्या जाये ......? लिख कर senti कर देते हैं लोगों को......और आप भी ऋचा जी कम नहीं हैं......एक तो उनका कलाम खूबसूरत औरदूसरे आपकी पेशकश.......सुभान अल्लाह !

    ReplyDelete
  2. अनिल जी और प्रिया जी हौसला अफज़ाई का शुक्रिया ... हम तो बस एक ज़रिया मात्र हैं... हमें लिखना नहीं आता बस इन नामचीनों की रचनाएँ जो हमें पसंद आती है आप सब के साथ बाँट लेते हैं

    ReplyDelete
  3. गुलज़ार साहब की कविता एक बार दोबारा पढ़ी ....मज़ा आ गया

    ReplyDelete
  4. दोबारा से शुक्रिया अनिल जी.. गुलज़ार साब हैं ही ऐसे... उन्हें जितना पढ़ो उतना ही मन करता है और पढ़ने का... गुलज़ार साब की ही एक और नज़्म पोस्ट करी है आज, उम्मीद है वो भी पसंद आएगी...

    ReplyDelete

दिल की गिरह खोल दो... चुप ना बैठो...

Related Posts with Thumbnails