Friday, May 29, 2009

गुलज़ार की त्रिवेणियाँ


Triveni - sher-o-shayari ki duniya ko gulzar sa'ab ki ek anmol bhet. ek khubsurat se khayal ko do misron me pesh kar teesre misre me use itni khoobsoorti se ek naya nazariya de dete hain ki padhne waala 'waah' kiye bina reh nahi sakta.
Triveni kya hai aaiye jaante hain khud gulzaar sa'ab ke shabdon me - "Shuru shuru mein jab ye form banaai thi, to pata nahin tha yeh kis sangam tak pahunchegi - Triveni naam isliye diya tha, ki pahle do misre, Ganga Jamuna ki tarah milte hain, aur ek khayal, ek sher ko mukammil karte hain. Lekin in do dharaon ke neeche ek aur nadi hai - Saraswati. Jo gupt hai. Nazar nahin aati; Triveni ka kaam saraswati dikhana hai. Teesra misra, kahin pahle do misron mein gupt hai. Chhupa hua hai"

aaj tak gulzar sa'ab ki jitni bhi triveniyan padhi ya suni hain sabhi itni behtareen hain ki ye kehna mushkil ho jaata hai kaun si zyada achhi hai, sabke khayal ek dusre se mukhtalif aur sabhi pehle waali se zyada khoobsoorat. phir bhi ek nakam si koshish kari hai triveni ke saagar se kuchh boonden nikal kar aap sab tak pahunchane ki, ummed hai pasand aayengi aur aap bhi meri hi tarah triveni ke fan ho jaayenge...

जुल्फ में यूँ चमक रही है बूँद
जैसे बेरी में तनहा इक जुगनू

क्या बुरा है जो छत टपकती है

*******************************************

इतने लोगों में, कह दो अपनी आंखों से
इतना ऊँचा न ऐसे बोला करें

लोग मेरा नाम जान जाते हैं

*******************************************

ज़िन्दगी क्या है जानने के लिए
जिंदा रहना बहुत ज़रूरी है

आज तक कोई भी रहा तो नहीं

*******************************************

सारा दिन बैठा मैं हाथ में लेकर खाली कासा
रात जो गुज़री चाँद कि कौड़ी डाल गई उसमें

सूदखोर सूरज कल मुझसे ये भी ले जाएगा

*******************************************

आओ जुबाने बाँट लें अब अपनी अपनी हम
न तुम सुनोगे बात, ना हमको समझना है

दो अनपढों को कितनी मोहब्बत है अदब से

*******************************************

कुछ इस तरह तेरा ख्याल जल उठा कि बस
जैसे दिया-सलाई जली हो अंधेरे में

अब फूँक भी दो, वरना ये ऊँगली जलाएगा

*******************************************

रात के पेड़ पे कल ही देखा था चाँद
बस पक के गिरने ही वाला था

सूरज आया था, ज़रा उसकी तलाशी लेना

*******************************************

सब पे आती है, सबकी बारी से
मौत मुंसिफ है, कम-ओ-बेश नहीं

ज़िन्दगी सब पे क्यूँ नहीं आती

*******************************************

पर्चियां बट रही हैं गलियों में
अपने कातिल का इंतेखाब करो

वक्त ये सख्त है चुनाव का

*******************************************

सांवले साहिल पे गुलमोहर का पेड़
जैसे लैला की माँग में सिन्दूर

धर्म बदल गया बेचारी का

*******************************************

सामने आया मेरे, देखा भी, बात भी की
मुस्कुराए भी किसी पहचान की खातिर

कल का अखबार था, बस देख लिया, रख भी दिया

*******************************************

चौदहवें चाँद को फिर आग लगी है देखो
फिर बहुत देर तक आज उजाला होगा

राख हो जाएगा तो कल फिर से अमावास होगी

*******************************************

ये माना इस दौरान कुछ साल बीत गए हैं
फिर भी आँखों में चेहरा तुम्हारा समाये हुए हैं

किताबों पे धूल जमने से कहानी कहाँ बदलती है

*******************************************

कुछ ऐसी एहतियात से निकला चाँद फिर
जैसे अँधेरी रात में खिड़की पे आओ तुम

क्या चाँद और ज़मीन में भी कुछ खिंचाव है

*******************************************

एक एक याद उठाओ और पलकों से पोंछ के वापस रख दो
अश्क नहीं ये आँख में रखे कीमती कीमती शीशे हैं

ताक से गिर के कीमती चीज़ें टूट भी जाया करती हैं

-- गुलज़ार

aise hi anginat triveniyan zehen me aa rahi hai, man machal raha hai unhen bhi aapke saath share karne ko, par phir kabhi ... aaj bas itna hi ... triveni aapko kaisi lagi bataiyega zaroor ...

9 comments:

  1. Gulzaar sa'ab ki in Triveniyon ka jawaab nahi....... Kuch bolne se behtar hain khamosh rahkar inmein doob jaye

    ReplyDelete
  2. लब तेरे मीर ने भी देखे है,
    पन्खुडी एक गुलाब की सी है।

    बाते सुनते गालिब हो जाते॥

    काफ़ी पहली बार पढी है.. त्रिवेणिया मुझे बहुत अच्छी लगती है..

    ReplyDelete
  3. I like this one on our Indian soldiers......

    Kaante wali taar pe kisne giley kapde taange hain
    Khoon tapakta rehta hai aur naali me beh jaata hai
    Kyun is fauji ki bewa har roz yeh vardi dhoti hai...!!

    ReplyDelete
  4. Annkahi Annsuni baatei kah jaate hai...
    bin kahe koi ruh mai utar jaate hai..

    jab dil ki lawj jubaan par nahi kalam par utar kar aate hai..

    ReplyDelete
  5. वो जिससे सांस का रिश्ता बँधा था मेरा
    दबा के दाँत तले सांस काट दी उसने

    कटी पतंग का माझा, मौहल्ले भर ने लूटा!

    ReplyDelete
  6. Gulzar साहब की 'त्रिवेणी' कृतियों का रसपान करते-करते मेरी भी प्रथम त्रिवेणी पेशकश -->

    यार छूट जाता है, साथी बदल जाते हैं
    मोहब्बत खत्म नहीं होती, फिर शुरू होती है

    साहिल ठिकाना नहीं, पड़ाव है मौज का

    --
    vps 'हितैषी'
    www.facebook.com/vps.hitaishi

    ReplyDelete

दिल की गिरह खोल दो... चुप ना बैठो...

Related Posts with Thumbnails